Menu Close

SIBLINGS Meaning in Hindi and English – सिब्लिंग का हिंदी मतलव(मीनिंग)





Siblings Meaning in Hindi and English : आज की इस पोस्ट में शब्दकोश वर्ड सिब्लिंग का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) को जानेंगे. Meaning of Siblings in Hindi and English की डेफिनिशन को एक्साम्पल के द्वारा समझने के लिए इसे अंत तक जरुर पढ़े.

Siblings Meaning in Hindi and English :

Meanings of Sibling in Hindi –
Noun
  •  बहिन.
  •  भाई.
  •  सहोदर.
  •  सहोदर भाई या बहन.
Definitions and Meaning of sibling in English –
Noun
– A person’s brother or sister.
फ्रेंड अब तक तो आपने शब्द सिब्लिंग का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) को संक्षेप में पढ़कर जाना लेकिन आगे आपकी नॉलेज को और अधिक बढ़ाने के लिए तथा इन वर्डो को विस्तार रूप में दर्शाकर आपके लिए वे सभी महत्वपूर्ण चीजे इससे रिलेटेड हमने आगे शेयर की है.
ताकि सभी गुत्थी सुलझकर बढ़िया जानकारी एक कहानी की तरह अपने दिमाग में डालकर इनके मीनिंग को अच्छे से याद रख पाए और जरुरत पड़ने पर उपयोग में आसानी हो सके तो चलिए देरी ना करके जल्दी से आगे बड़ते और पढ़ना स्टार्ट करते है.

What is the Meaning of Siblings in Hindi and English :

सभी शब्दों के विस्तार वर्णन –
– एक माँ की संताने, यह वर्ड का तात्पर्य ऐसी माँ से है जिसके बहुत से बच्चे है. इससे एक चीज साफ़ होती है कि इन बच्चो की माँ तो एक ही होंगी लेकिन पिता के एक ही होने की कोई गारंटी इस शब्द के द्वारा नही देखने को मिलती है.
हम यदि भारतीय माँ की बात करे और साथ ही एक – दो पीढ़ी पुरानी जो कि अब हमारी दादी या परदादी लगेगी. उस समय उनकी बहुत सी संताने होती थी क्योकि ऐसा अक्सर सभी घरो में देखने को मिलता था. हम कहे कि मानो कोई बड़ा कम्पटीशन इन लोगो के बीच चल रहा हो आपस में अधिक बच्चे पैदा करने का क्योकि ये उस समय खासकर ट्रेंड में था.
इसका एक कारण उस टाइम के लोग अपने बच्चो चाहे लड़की या लड़का दोनों की ही शादिया बचपन में ही कर देते थे और पढाई का कोई नामोनिशान देखने को नही मिलता. यदि पढ़े – लिखे होते तो कुछेक लोग ही कुछ class तक study कर लिया करते थे.
Study ना करके छोटी उम्र में लड़के काम – धंधो में लगकर जाते और फिर बस एक काम बचता वो है शादी तो फिर उनकी शादी कम उम्र में होती और 30 age के होते – होते 4 – 5 बच्चो के माता – पिता तो वे आसानी से बन ही जाते है. यदि आप अपने दादा – दादी की लाइफ को जानेगे तो अधिक बच्चे होने के सभी कारण आपको आसानी से समझ आ जायेंगे.
– भाई या बहन, एक ही माता – पिता की संताने आपस में भाई – बहन लगते है. ये आप अच्छी तरह जानते ही होंगे क्योकि आपका और सभी का कोई ना कोई भाई या बहन होता है पर कुछ मामलो में नही भी हो सकता है. एक ही माँ – बाप के बच्चो में भाई के लिए लड़की बहन कहलायेगी और बहन के लिए लड़का भाई कहलायेगा. यहाँ दोनों ही स्थिति पैदा होती है.
ये बच्चे या भाई – बहन दो से अधिक भी हो सकते है. पहले कोई भी पैदा हो सकता है. याने बड़े – छोटे होना स्वाभिक ही है. यदि अधिक संताने या वच्चो की बात करे तो पुराने ज़माने के बहुत होते थे लेकिन आजकल हम दो हमारे दो नारे के चलते इनकी संख्या घटकर एक दो तक सिमित रह गयी है.
इसका एक कारण अधिक उम्र में शादिया और काफी बिजी आधुनिक लाइफ का होना भी एक कारण हो सकता है इसके साथ ही इंडिया की बात करे तो जनसंख्या की श्रेणी में दूसरे नंबर पर आता है. इसके चलते खाने – पीने की खपत बहुत ज्यादा बड़ी है.
लोगो की बड़े – बड़े शहरों में भीड़ जमा होने का कारण रोजगार की तलाश के चलते दिखाई पड़ती है क्योकि जनसंख्या बड़ी और ग्रोथ के संसाधनों को इसके चलते उतना ग्रोथ नही हुआ.
इनके इफ़ेक्ट –
– एक माँ की संताने, हमने इसको ऊपर काफी कुछ विस्तार के साथ जाना कि सभी बच्चे जो एक ही माँ की कोख से जन्मे एक माँ की संताने कहलाती है. पर पिता के एक होने की कोई गारंटी नही होती इस स्थिति में.
अब यदि प्रभाव को देखे तो जब ये बच्चे एक ही माँ और पिता के होते है तब तो कोई परेशानी नही होती है क्योकि हमारे समाज में सभी के साथ देखने को मिलता है और यह भारतीय संस्कृति के अंतर्गत भी देखा जा सकता है.
लेकिन इसके विपरीत एक से अधिक बच्चे एक माँ के हो लेकिन उनके पिता अलग – अलग तब तो यह उस माँ के लिए चरित्रहिन होने का कलंक बन जाता है और सोसाइटी में बदनामी के साथ समाज में बूरी आदतों को फ़ैलाने के साथ बहिष्कार तक भी किया जाता है.
क्योकि ये सब भारतीय संस्कृति में पाप माना जाता है जो भी इन नियमो का उलंघन करता है उसे चरित्रहीन मानकर लोग उससे दूरिया बनाना शुरू कर लेते है. इनका प्रभाव लोगो के मन को डगमगा कर ऐसी चीजो को और बढावा देती है.
– भाई या बहन, इसका तात्पर्य हमने ऊपर विस्तृत वर्णन के साथ पेश किया है यदि आपने पढ़ा होगा तो सब मतलव समझ आ गया होगा. फिर भी हम बता दे एक ही माता – पिता के बच्चे आपस में भाई या बहन लगते है.
बच्चो में भाई के लिए लड़की, बहन और बहन के लिए लड़का, भाई कहलाता है अब बात करे इनके प्रभाव की तो यह समाज में रिस्तो का सरल वे है. इसका कोई अच्छा – बूरा प्रभाव देखा नही जाता है.
इन शब्दों के उपयोग –
– एक माँ की संताने, एक माता से जन्मे सभी बच्चो को दर्शाने हेतु उपयोग में लिया जाता है.
– भाई या बहन, रक माँ – बाप के बच्चो के लिए इस शब्द को यूज़ में लाते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *